इसरो : बस हां की जरूरत, भारत के पास अंतरिक्ष स्टेशन बनाने की पूरी क्षमता

एक साथ 104 उपग्रहों को प्रक्षेपित कराकर इतिहास रचने से उत्साहित भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने सोमवार को कहा कि वह अंतरिक्ष में देश का अपना स्टेशन विकसित करने में सक्षम है, बशर्ते देश दीर्घकालिक सोच के साथ इस महत्वाकांक्षी परियोजना के लिये मन बनाये।

इसरो के चेयरमैन एएस किरण कुमार ने राजा रमन्ना प्रगति प्रौद्योगिकी केंद्र (आरआरसीएटी) स्थापना दिवस समारोह में भाग लेने के बाद मीडिया के एक सवाल पर कहा कि हमारे पास अंतरिक्ष में भारत का अपना स्टेशन बनाने की पूरी क्षमता है। जिस दिन देश यह स्टेशन बनाने का फैसला कर लेगा, हम इस परियोजना के लिये हां कह देंगे। आप बस नीति बनाकर हमें इसके लिये जरूरी धन और कुछ समय दे दीजिए।

उन्होंने कहा कि अब भी चर्चा होती है कि मानवयुक्त अंतरिक्ष मिशन से तुरंत किस तरह के फायदे लिये जा सकते हैं। इसलिए देश फिलहाल अपना मन नहीं बना सका है कि इस परियोजना में भारत का अपना अंतरिक्ष स्टेशन बनाने के लिए पूंजी कब लगानी चाहिए।

किरण कुमार ने जोर देकर कहा कि अंतरिक्ष में भारत का स्टेशन बनाने के लिये लंबी सोच रखी जानी चाहिये। उन्होंने कहा कि इस सिलसिले में जितनी जल्दी कदम उठाए जाएं, उतना अच्छा होगा। उन्होंने यह भी कहा कि इसरो उपग्रह प्रक्षेपण क्षेत्र में देश की क्षमता में वृद्धि के लिये उद्योग जगत के किसी समूह के साथ संयुक्त उपक्रम बनाने पर विचार कर रहा है।

Be the first to comment on "इसरो : बस हां की जरूरत, भारत के पास अंतरिक्ष स्टेशन बनाने की पूरी क्षमता"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


one × 5 =